पेनोमी (डॉ. करि अन्न ओवेन), पूर्व यहूदी, अमेरिका

रेटिंग:
फ़ॉन्ट का आकार:
A- A A+

विवरण: जीवन के विभिन्न अनुभवों के कारण, डॉ. ओवेन अमेरिकी और पश्चिमी समाज से संबंधित होने की कमी महसूस करती हैं और मार्गदर्शन के लिए कहीं और देखती हैं।

  • द्वारा Dr. Kari Ann Owen
  • पर प्रकाशित 04 Nov 2021
  • अंतिम बार संशोधित 04 Nov 2021
  • मुद्रित: 1
  • देखा गया: 1,941 (दैनिक औसत: 2)
  • रेटिंग: 2.0 में से 5
  • द्वारा रेटेड: 63
  • ईमेल किया गया: 0
  • पर टिप्पणी की है: 0
खराब श्रेष्ठ

"ईश्वर के अलावा कोई पूजनीय नही है, एंव मुहम्मद (ईश्वर की दया और कृपा उन पर बनी रहे) ईश्वर के दूत हैं।"

यह शहादह के वे शब्द हैं जिनमें मुझे विश्वास है।

पैदा करने वाले को अनेक नामों से जाना जाता है। उसका ज्ञान हमेशा पहचानने योग्य होता है, और उसकी उपस्थिति हमारे समुदाय में मौजूद प्रेम, सहिष्णुता और करुणा में प्रकट होती है।

अमेरिकी समाज में इतने बड़े पैमाने पर फैले युद्ध जैसे व्यक्तिवाद से हमें पैदा करने वाले के मानव परिवार की महिमा और गरिमा में विश्वास, और उस परिवार के भीतर हमारे दायित्वों और सदस्यता के लिए मार्गदर्शन करने की उनकी गहन क्षमता। यह एक आध्यात्मिक व्यक्तित्व की परिपक्वता का वर्णन करता है, और शायद मनोवैज्ञानिक स्वयं की सबसे वांछनीय परिपक्वता भी।

शहादह के लिए मेरा सफर तब शुरू हुआ, जब एक प्रशंसित निर्देशक टोनी रिचर्डसन की एड्स से मृत्यु हो गई। मिस्टर रिचर्डसन पहले से ही एक शानदार और अंतरराष्ट्रीय स्तर पर मान्यता प्राप्त पेशेवर थे जब मैं उनसे 14 वर्ष की आयु में लूथर नाटक में मंच के पीछे मिली थी।

मेरे लिए नाटक लेखन हमेशा अपने भीतर और अपने एंव एक ऐसी दुनिया के बीच जिसे मैंने बचपन की परिस्थितियों के कारण क्रूर पाया, दोनों जगहों पर आध्यात्मिक और भावनात्मक सामंजस्य की डिग्री खोजने का एक तरीका रहा है। दुनिया से लड़ने के बजाय, मैंने अपने नाटकों में अपने संघर्षों को इनसे लड़ने दिया। आश्चर्यजनक रूप से, हममें से कुछ लोग एक साथ बड़े भी हुए हैं!

इसलिए, जब मैंने 17 साल की उम्र से स्टेज क्रेडिट्स (प्रोडक्शन और स्टेजिंग रीडिंग) जमा करना शुरू किया, तो मैंने हमेशा इस उम्मीद को बरकरार रखा कि मैं किसी दिन मिस्टर रिचर्डसन के साथ पढ़ाई और काम करने के अपने बचपन के सपने को पूरा करूंगी। जब वे अपनी समलैंगिकता और एक बहुसंख्यक समुदाय की वजह से (इंग्लैंड से) अमेरिका गए, तो एड्स ने उन्हें मार डाला, और उनके साथ अमेरिकी समाज में और उसके भीतर मेरी भावना का एक और हिस्सा चला गया।

मैंने नैतिक मार्गदर्शन के लिए अमेरिकी और पश्चिमी समाज से अलग, इस्लामी संस्कृति को देखना शुरू किया।

इस्लाम ही क्यों और कुछ क्यों नहीं?

मेरी जन्ममाता के पूर्वज स्पेनिश यहूदी थे, जो 1492 में न्यायिक जांच द्वारा यहूदी समुदाय को निष्कासित कर दिए जाने तक मुसलमानों के बीच ही रहते थे। मेरी ऐतिहासिक याददाश्त में, जिसे मैं एक गहरे स्तर पर महसूस करती हूं, मुअज़्ज़िन की पुकार उतनी ही गहरी है जितनी कि समुद्र की खामोशी, जहाजों की लहरें, रेगिस्तान में घोड़ों की तेज टापें और अत्याचार के सामने प्यार का दावा है।

मैंने अपने भीतर एक कहानी का जन्म होते महसूस किया, और एक नाटक का भी, जिसने तब सम्पूर्ण रूप ले लिया जब मैंने अपने पूर्वजों के निष्कासन के समय यहूदी शरणार्थियों के प्रति एक तुर्क ख़लीफ़ा की मानवता के बारे में जानना शुरू किया। ईश्वर ने मेरे ज्ञान का मार्गदर्शन किया, और मुझे इस्लाम के बारे में साउथ बे इस्लामिक एसोसिएशन के इमाम सिद्दीकी, सिस्टर हुसैन ऑफ़ रहीमा और मेरी प्यारी मुंह बोली बहन मारिया आब्दीन, जो एक अमेरिकी मूल की मुस्लिम महिला हैं, और SBIA की पत्रिका, IQRA की लेखिका हैं, जैसे विविध व्यक्तियों द्वारा बताया गया था और मेरा पहला शोध साक्षात्कार सैन फ्रांसिस्को के मिशन जिले में एक हलाल [इस्लामी कानून में वैध माना जाने वाला मांस] कसाई की दुकान में था, जहां जीवित इस्लाम की मेरी समझ उस पहली मुस्लिम महिला से प्रभावित हुई थी, जिससे मेरी मुलाकात किसी भी मुस्लिम महिला से मेरी सर्वप्रथम मुलाकात थी: एक ग्राहक जो हिजाब में थी, जिसने अत्यंत मधुरता भरी दया और कृपा के साथ व्यवहार किया और साथ ही उसने चार भाषाओं को पढ़ा, लिखा एंव बोला।

उसकी अहंकार से अद्भुत मुक्ति के कारण (मेरे लिए) दुगुनी हो चुकी उसकी प्रतिभा ने मेरे ज्ञान की शुरुआत पर गहरा प्रभाव डाला कि इस्लाम मानव व्यवहार को कैसे प्रभावित कर सकता है।

तब मुझे इतना नहीं पता था कि केवल एक नाटक का नहीं, बल्कि एक नए मुसलमान का भी जन्म होने वाला है।

मेरे शोध के दौरान मुझे इस्लाम के एक जीवित धर्म होने को लेकर तथ्यों के एक समूह की तुलना में इस्लाम के बारे में बहुत कुछ पता चला। मैंने जाना कि कैसे मुसलमान एक दूसरे के साथ ऐसी गरिमा और दयालुता के साथ व्यवहार करते हैं, जो उन्हें यौन प्रतिस्पर्धा और हिंसा के अमेरिकी गुलामी बाजार से ऊपर उठाती हैं। मैंने जाना कि मुस्लिम पुरुष और महिलाएं वास्तव में मौखिक और शारीरिक रूप से एक-दूसरे को टुकड़ों में बांटे बिना एक-दूसरे की उपस्थिति में हो सकते हैं। और मैंने यह भी जाना कि साधारण पोशाक, जिसे आध्यात्मिक अवस्था के रूप में शुमार किया जाता है, मानव व्यवहार का उत्थान कर सकती है और पुरुष और महिला दोनों को अपने स्वयं के आध्यात्मिक मूल्य की भावना प्रदान कर सकती है।

यह इतना आश्चर्यजनक, और इतना हैरतअंगेज तौर से नया क्यों लग रहा था?

अधिकांश अमेरिकी महिलाओं की तरह, मैं भी एक गुलाम बाजार में पली-बढ़ी, जिसमें न केवल मेरे परिवार की यौन बीमारियां शामिल थीं, बल्कि सात साल से कम उम्र के साथियों द्वारा मेरी उपस्थिति का लगातार नकारात्मक निर्णय लिया जाना भी एक कारण था। मुझे अमेरिकी समाज द्वारा बहुत कम उम्र से सिखा दिया गया था कि मेरे मानवीय मूल्यों में केवल लोगों के प्रति मेरा आकर्षण (या मेरे मामले में इसकी कमी) शामिल है। कहने की जरूरत नहीं है कि इस माहौल में लड़के और लड़कियां, पुरुष और महिलाएं सहकर्मी की ओर से स्वीकृति की बेताब इच्छा को देखते हुए, जो पूरी तरह नहीं, तो अधिकांश समय किसी की दया, करुणा या बुद्धि पर भी निर्भर होने के बजाय, उनके शारीरिक आकर्षण और दूसरों के उनको देखने की धारणा पर निर्भर होती है, अक्सर एक-दूसरे से बहुत अधिक नाराज हो जाते हैं।

चूंकि मैं मुसलमानों के बीच मानव पूर्णता की आशा या तलाश नहीं करती हूं, ऐसे में सामाजिक अंतर काफी गहरा है, और मेरे जैसे किसी के लिए तो लगभग अविश्वसनीय है।

मैं मध्य पूर्व के संघर्षों का कोई जवाब होने का दिखावा नहीं करती, सिवाय उनके, जिनका जवाब इस्लाम के प्रिय पैग़म्बर ने पहले ही दे दिया है। मेरी अक्षमताएं मुझे उपवास रखने और अधिकांश [मुसलमानों] के समान प्रार्थना की मुद्रा में प्रार्थना करने से रोकती हैं।

लेकिन मैं उस इस्लाम से प्यार करती हूं और उसका बहुत सम्मान करती हूं, जो मुझे उन पुरुषों और महिलाओं के व्यवहार और शब्दों के माध्यम से मालूम हुआ है, जिनको मैंने अमेरिकन मुस्लिम इंटेंट ऑन लर्निंग एंड एक्टिविज्म और अन्य जगहों पर जाना है, जहां मुझे क्रूर भावनात्मक संघर्षों और आसन्न आध्यात्मिकता की भावना से मुक्ति मिलती है।

मैं इस्लाम के बारे में और क्या महसूस करती हूँ और मानती हूँ?

मैं समान लिंग शिक्षा के लिए, समाज में महिलाओं के साथ-साथ पुरुषों के अधिकारों के लिए तथा शालीन पोशाक के लिए इस्लाम का सम्मान और प्रशंसा करती हूं, और सबसे बढ़कर संयम और शादी के लिए, जो मेरे जीवन के दो सबसे गहरे आधार हैं, क्योंकि मैं साढ़े 21 साल की शांत और खुशहाल विवाहिता हूं। यह महसूस करना कितना अद्भुत है कि डेढ़ अरब मुसलमान चरित्र विकास में मेरे विश्वास को साझा करते हैं, जिसकी विवाह हमें अनुमति देता है, साथ ही मेरे नशीली दवा और शराब मुक्त रहने के निर्णय में भी मेरा समर्थन करते हैं।

तो फिर व्यापक अर्थों में इस्लाम का सबसे बड़ा उपहार क्या है?

एक ऐसे समाज जो हमें परिणामों की परवाह किए बिना बेलगाम वृत्ति की वेदियों पर खुद का बलिदान करने के लिए लगातार दबाव डालता है, इस्लाम हमें दूसरों के साथ अपने संबंधों में जिम्मेदारी की क्षमता के साथ ईश्वर द्वारा बनाए गए मानव व्यक्ति के रूप में मानने के लिए कहता है। नमाज़, ज़कात तथा संयम और शिक्षा के प्रति प्रतिबद्धता के माध्यम से, यदि हम इस्लाम के मार्ग का अनुसरण करते हैं, तो हमारे पास उन बच्चों की परवरिश करने का और उन्हें उस हिंसा और शोषण से बचाने का एक अच्छा मौका है जो उनके सुरक्षित स्कूलों और अड़ोस-पड़ोस और कई बार उनके जीवन तक को छीन लेते हैं

खराब श्रेष्ठ

टिप्पणी करें

  • (जनता को नहीं दिखाया गया)

  • आपकी टिप्पणी की समीक्षा की जाएगी और 24 घंटे के अंदर इसे प्रकाशित किया जाना चाहिए।

    तारांकित (*) स्थान भरना आवश्यक है।

इसी श्रेणी के अन्य लेख

सर्वाधिक देखा गया

प्रतिदिन
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
कुल
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)

संपादक की पसंद

(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)

सूची सामग्री

आपके अंतिम बार देखने के बाद से
यह सूची अभी खाली है।
सभी तिथि अनुसार
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)

सबसे लोकप्रिय

सर्वाधिक रेटिंग दिया गया
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
सर्वाधिक ईमेल किया गया
सर्वाधिक प्रिंट किया गया
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
इस पर सर्वाधिक टिप्पणी की गई
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)

आपका पसंदीदा

आपकी पसंदीदा सूची खाली है। आप लेख टूल का उपयोग करके इस सूची में लेख डाल सकते हैं।

आपका इतिहास

आपकी इतिहास सूची खाली है।