स्वर्ग में प्रवेश करने वाला अंतिम व्यक्ति (2 का भाग 1): और एक पेड़ खड़ा किया जाएगा

रेटिंग:
फ़ॉन्ट का आकार:
A- A A+

विवरण: जब अंतिम व्यक्ति नर्क से बाहर आएगा और स्वर्ग में प्रवेश करेगा तो नर्क का द्वार हमेशा के लिए बंद हो जाएगा।

  • द्वारा Aisha Stacey (© 2013 IslamReligion.com)
  • पर प्रकाशित 04 Nov 2021
  • अंतिम बार संशोधित 04 Nov 2021
  • मुद्रित: 0
  • देखा गया: 4,832 (दैनिक औसत: 5)
  • रेटिंग: अभी तक नहीं
  • द्वारा रेटेड: 0
  • ईमेल किया गया: 0
  • पर टिप्पणी की है: 0
खराब श्रेष्ठ

LastPersonEnterParadise1.jpgस्वर्ग वह अविश्वसनीय इनाम है जिसे ईश्वर ने विश्वासियों (ईमान वालों) के लिए बनाया है; उनके लिए जो ईश्वर की आज्ञा मानते हैं। यह पूर्ण आनंद और शांति का स्थान है और अस्तित्व में ऐसा कुछ भी नहीं है, जो इसे परेशान कर सके। यह हमेशा के लिए चलेगा और हम आशा करते हैं कि यह हमारा शाश्वत घर होगा। ईश्वर और उनके पैगंबर मुहम्मद ने हमें स्वर्ग के बारे में जो बताया है वह अकल्पनीय लगता है और हमारे दिमाग को घुमा देता है। पैगंबर मुहम्मद की परंपराओं में से एक के अनुसार, ईश्वर कहता है, "मैंने अपने धर्मी दासों के लिए ऐसा बनाया है, जिसे न तो किसी आंख ने देखा है, न किसी के कान ने सुना है और न ही किसी इंसान के दिमाग ने सोचा है।"[1]हम, विनम्र मनुष्य इसी की प्रतीक्षा कर रहे हैं, और यदि हम बुद्धिमान हैं और इसके लिए काम करते हैं, तो यह इस क्षणिक जीवन के संघर्ष का प्रतिफल है। हम अपने शाश्वत निवास के बारे में सोचते हैं और अपने आप से सवाल पूछते हैं, हम आशा के साथ स्वर्ग और डर के साथ नर्क के बारे में सोचते हैं, लेकिन हमारा दिल जितना कांपता है, स्वर्ग का ख्याल उतना ही आनंद देता है।

पैगंबर मुहम्मद की परंपराओं में स्वर्ग और नर्क के विवरण में इस बारे में वर्णन शामिल हैं कि स्वर्ग में प्रवेश करने वाला पहला व्यक्ति कौन होगा। न्याय के महान दिन, वह व्यक्ति पैगंबर मुहम्मद होंगे। उन्होंने अपने साथियों से कहा कि वह "स्वर्ग के द्वारों पर दस्तक देने वाले पहले व्यक्ति होंगे।" [2] पैगंबर मुहम्मद ने यह भी कहा: "मैं स्वर्ग के द्वार पर आऊंगा और उन्हें खोलने के लिए कहूँगा। द्वारपाल पूछेगा, "आप कौन हो?" मैं कहूंगा, "मुहम्मद।" द्वारपाल कहेगा "मुझे आदेश दिया गया था कि मैं आपसे पहले किसी और के लिए द्वार न खोलूं।"[3]

पैगंबर मुहम्मद पहले प्रवेश करेंगे, यह एक अच्छा योग्य आशीर्वाद है। हमारे दिमाग में इस महान सम्मान के कारणों को समझना आसान हो जाता है, लेकिन कुछ समय बाद हम यह सोचना शुरू कर देते हैं कि स्वर्ग में प्रवेश करने वाला अंतिम व्यक्ति कौन होगा? क्योंकि एक अंतिम व्यक्ति प्रवेश करेगा और फिर द्वार बंद कर दिया जायेगा। पैगंबर मुहम्मद के साथी भी स्वर्ग के बारे में ठीक ऐसा ही सोचते थे जैसे हम सोचते हैं। हालाँकि उन्हें अपने प्रिय पैगंबर से यह पूछने का अद्भुत सौभाग्य मिला कि स्वर्ग में प्रवेश करने वाला अंतिम व्यक्ति कौन होगा?

जैसा कि हम जानते हैं कि पैगंबर मुहम्मद की परंपराएं विभिन्न रूपों में हमारे पास आई हैं और इनमें से एक हदीस कुदसी या पवित्र हदीस है। ये परंपराएं विशेष रूप से महत्वपूर्ण हैं क्योंकि शब्द पैगंबर मुहम्मद का है, इसका अर्थ पूरी तरह से ईश्वर से है। यह एक प्रकार का रहस्योद्घाटन है। ये परंपराएं मानवजाति के लिए ईश्वर के संदेश का एक और आयाम बनाती हैं और आमतौर पर आध्यात्मिक या नैतिक विषयों से संबंधित होती हैं। साथियों द्वारा पूछे गए प्रश्न का उत्तर हदीस क़ुदसी में निहित है और यह सभी परंपराओं में सबसे सुंदर और व्यापक है। इस परंपरा का अनुवाद निम्नलिखित है।

स्वर्ग में प्रवेश करने वाला अंतिम व्यक्ति वह व्यक्ति होगा जो एक बार चलेगा, एक बार ठोकर खाएगा और एक बार आग से जलेगा। एक बार जब वह इसे पार कर लेगा, तो वह उसकी तरफ घूमेगा और यह कहेगा, 'धन्य हो वो जिसने मुझे तुझसे बचाया है। ईश्वर ने मुझे कुछ दिया है जो उसने पहले और आखिरी को नहीं दिया है।'

तब उसके लिए एक वृक्ष खड़ा किया जाएगा, और वह कहेगा, हे मेरे ईश्वर, मुझे इस वृक्ष के समीप ले जा कि मैं इसकी छाया में शरण पाऊं, और इसका जल पीऊं। ईश्वर कहेगा, 'हे आदम के बेटे, शायद अगर मैं तुम्हें यह अनुदान दूं, तो तुम मुझसे कुछ और मांगोगे?' वह कहेगा, 'नहीं, हे ईश्वर', और वह वादा करेगा कि वह उससे और कुछ नहीं मांगेगा, और उसका ईश्वर उसे क्षमा कर देगा क्योंकि उसने कुछ ऐसा देखा है, जिसका इंतजार करने के लिए उसके पास धैर्य नहीं है। तब वह उसके समीप लाया जाएगा, और उसकी छांव में शरण लेगा, और उसका जल पीएगा।

तब उसके लिए एक और पेड़ खड़ा किया जाएगा जो पहले से अधिक सुंदर है, और वह कहेगा, 'हे मेरे ईश्वर, मुझे इस पेड़ के करीब ले जाओ, ताकि मैं इसका पानी पी सकूं और इसकी छाया में आराम कर सकूं, और मैं इसके अलावा और कुछ न मांगूंगा।' ईश्वर कहेगा, 'ऐ आदम की सन्तान क्या तूने मुझसे यह वादा नहीं किया था कि तू मुझसे और कुछ नहीं माँगेगा?' ईश्वर कहेगा, 'शायद अगर मैं तुम्हें इसके पास लाऊं तो तू मुझसे कुछ और मांगेगा।' वह वादा करेगा कि वह उससे कुछ और नहीं मांगेगा, और उसका ईश्वर उसे माफ कर देगा क्योंकि उसने कुछ ऐसा देखा है जिसका इंतजार करने के लिए उसके पास धैर्य नहीं है। तब वह उसके समीप लाया जाएगा, और उसकी छांव में शरण लेगा, और उसका जल पीएगा।

फिर उसके लिए जन्नत के द्वार पर एक और पेड़ खड़ा किया जाएगा जो पहले दोनों से भी ज्यादा खूबसूरत होगा, और वह कहेगा, 'हे मेरे ईश्वर, मुझे इस पेड़ के करीब ले आओ ताकि मैं इसकी छाया में आराम कर सकूं और इसका पानी पी सकूं, और मैं तुझ से और कुछ नहीं मांगूंगा।' ईश्वर कहेगा, 'हे आदम के पुत्र, क्या तूने मुझ से यह वादा नहीं किया था कि तू मुझसे और कुछ नहीं मांगेगा?' वह कहेगा, 'हाँ, मेरे ईश्वर, मैं तुमसे और कुछ नहीं मांगूंगा।' उसका ईश्वर उसे क्षमा कर देगा क्योंकि उसने कुछ ऐसा देखा है जिसका इंतजार करने के लिए उसके पास धैर्य नहीं है। वह उसके निकट लाया जाएगा, और जब वह उसके निकट आएगा, तो वह स्वर्ग के लोगों की आवाज सुनेगा और कहेगा, 'हे ईश्वर, मुझे उसमें प्रवेश दे।' ईश्वर कहेगा: 'हे आदम के पुत्र, ऐसा क्या है जिससे तू मांगना बंद कर देगा? यदि मैं तुम्हें संसार और उतना ही और दे दूं तो क्या यह तुम्हें प्रसन्न करेगा?' वह कहेगा, 'हे प्रभु, क्या तुम मेरा मजाक उड़ा रहे हो, जब आप ही संसार के स्वामी हो?'

इब्न मसूद (इस सुंदर कथा को सुनाने वाले साथी) मुस्कुराये और कहा: तुम लोग मुझसे क्यों नहीं पूछते कि मैं क्यों मुस्कुरा रहा हूँ? उन्होंने पूछा: आप क्यों मुस्कुरा रहे हो? उन्होंने कहा: इसी तरह ईश्वर के दूत (ईश्वर की दया और कृपा उन पर बनी रहे) भी मुस्कुराये थे और पैगंबर के आसपास के साथियों ने पूछा: आप क्यों मुस्कुरा रहे हैं ईश्वर के दूत? उन्होंने कहा: "क्योंकि दुनिया का ईश्वर मुस्कुराएगा जब वह आदमी कहेगा, 'क्या तुम मेरा मज़ाक उड़ा रहे हो, जब आप ही दुनिया के ईश्वर हो?' और ईश्वर कहेगा: 'मैं तुम्हारा मज़ाक नहीं उड़ा रहा हूँ, लेकिन मैं जो कुछ भी चाहता हूं वह करने में सक्षम हूं।'”[4]

भाग दो में हम चर्चा करेंगे कि इस हदीस में ईश्वर की दया और कृपा का कैसे दिखाया गया है और देखेंगे कि सभी दुनिया के ईश्वर अपनी रचना को कितनी अच्छी तरह जानते और समझते हैं।


फुटनोट:

[1] सहीह अल-बुखारी, सहीह मुस्लिम

[2] सहीह मुस्लिम

[3] इबिड

[4] सहीह मुस्लिम

खराब श्रेष्ठ

इस लेख के भाग

सभी भागो को एक साथ देखें

टिप्पणी करें

  • (जनता को नहीं दिखाया गया)

  • आपकी टिप्पणी की समीक्षा की जाएगी और 24 घंटे के अंदर इसे प्रकाशित किया जाना चाहिए।

    तारांकित (*) स्थान भरना आवश्यक है।

इसी श्रेणी के अन्य लेख

सर्वाधिक देखा गया

प्रतिदिन
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
कुल
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)

संपादक की पसंद

(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)

सूची सामग्री

आपके अंतिम बार देखने के बाद से
यह सूची अभी खाली है।
सभी तिथि अनुसार
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)

सबसे लोकप्रिय

सर्वाधिक रेटिंग दिया गया
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
सर्वाधिक ईमेल किया गया
सर्वाधिक प्रिंट किया गया
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
इस पर सर्वाधिक टिप्पणी की गई
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)
(और अधिक पढ़ें...)

आपका पसंदीदा

आपकी पसंदीदा सूची खाली है। आप लेख टूल का उपयोग करके इस सूची में लेख डाल सकते हैं।

आपका इतिहास

आपकी इतिहास सूची खाली है।